Saturday, November 9, 2013

Say No is GOOD in somecases...

Sounds easy but in reality, not many people have learned to refuse others. When you’re doing something, focus on it 100%, don’t multitask and don’t think about other stuff. By all means, don’t allow other people to interupt you.

The cost of an interuption comes from the fact that our brain takes time to readapt to the context of a problem, so while you might be thinking you’re solving multiple problems simultaneously, you almost always end up chasing two rabbits and coming up empty handed. That’s not to say that multitasking is wrong.

Monday, September 9, 2013

Short Story

सुबह हो रही थी। स्पेन की उस जेल में एक युवक देशभक्त को गोली से उड़ाया जाना था। वह फौजी दस्ते के सामने खड़ा था। सब तैयारी हो चुकी थी। सन्नाटा छाया हुआ था।मृत्युदंड प्राप्त विद्रोही एक हास्य लेखक था और स्पेन में बहुत ही लोकप्रिय। गोली मारनेवाले दस्ते के नायक का एक जमाने में मित्र रहा था। दोनों मेड्रिड विश्वविद्यालय में पढ़े थे। राजा और चर्च की सत्ता को उखाड़ने के लिए उन्होंने संघर्ष किया था। साथ बैठकर शराब पी थी। गप्पें लगाई थी और दार्शनिक विषयों पर घंटों बहस की थी। तब उनके मतभेद भी सद्भावनापूर्ण थे किंतु बाद में स्पेन का वातावरण आंतरिक अशांति से भर उठा। सैनिक टुकड़ी के नायक का वही पुराना मित्र आज प्राणदंड की प्रतीक्षा में सामने खड़ा था।नायक के मन में अतीत की स्मृतियां डोल रही थीं। गृहयुद्ध छिड़ने के बाद कितना कुछ बदल गया था। आज सवेरे उन दोनों ने एक–दूसरे को देखा, जेल में। बोले कुछ नहीं, सिफ‍र् मुस्करा दिए।हर चीज शांत थी। उस खामोशी में अचानक नायक की आवाज गूँज उठी, ‘‘अटेंशन।’’आदेश मिलते ही फौजी टुकड़ी में एक सामूहिक हरकत हुई। सिपाहियों के हाथ बंदूकों पर अकड़ गए और शरीर तन गए।किंतु इसी दरम्यान कैदी ने खाँसा और गला साफ किया। इससे मानो सारी लय टूट गई। नायक ने तुरंत उस विद्रोही बंदी की ओर देखा कि शायद वह कुछ कहे, किन्तु बंदी चुप था। सैनिकों की तरफ घूमकर नायक अगला आदेश देने के लिए तैयार हुआ। सहसा उसके विचार धुंधलाने लगे। मन नफरत से भर गया। उसने देखा कि दीवार से पीठ सटाकर बैठा बंदी खड़ा था और उसके सामने छह सैनिक। यह सब एक दु:स्चप्न की तरह था। सैनिक ऐसे लग रहे थे, मानो छह घडि़यां चलते–चलते बंद हो गई नायक याद करने लगा, ‘‘अटेंशन’’ के बाद कहना होगा, ‘‘शोल्डर आम्र्स,’’ फिर ‘‘प्रेजेंट’’ और अंतिम रूप से ‘‘फायर’’। उसे यह शब्द बहुत दूर और अस्पष्ट जान पड़े। वह कुछ बुदबुदाया, तो सिपाहियों ने अपनी बंदूकें सीधी तान दीं। फिर कुछ पलों का अंतराल। जेल के बरामदे में किसी के पाँवों की तेज आहट फौजी दस्ते के नायक को एहसास हो गया कि मृत्युदंड स्थगित करने का आदेश आ पहुँचा है। वह सजह हो उठा।‘‘रुको!’’, एक व्यग्र तत्परता के साथ वह चिल्लाया।छह सैनिकों के हाथों में बंदूकें सधी हुई थीं। उन्हें एक ध्वनि में ‘‘आदेशपालन’’ करना सिखलाया गया था। यांत्रिक ढंग से शब्द के अर्थ से नहीं। उन्होंने एक ध्वनि सुनी, ‘‘रुको’’ और बंदूकें दाग दी गई।

(चार्ली चेपलिन)

Friday, August 23, 2013

Wednesday, July 24, 2013

The Last Letter


DharmenDra Bagrecha

Saturday, June 29, 2013

GOD

The life of life is called GOD

Thursday, June 20, 2013

Git Pocket Guide



"Git Pocket Guide: A Working Introduction" by Richard E. Silverman


Written for Git version 1.8.2, this handy task-oriented guide is organized around the basic version control functions you need, such as making commits, fixing mistakes, merging, and searching history.

Wednesday, June 19, 2013

Its Me



It's Me
I am not perfect
Some people are better than me
But
I am better than many.

DharmenDra Bagrecha

Tuesday, June 18, 2013

Kindness

Kindness is a gift of heart.
Friendship is a bond of soul.
Shared moments are never forgotten.

Tuesday, June 11, 2013

LORD GOD

My sweet LORD GOD,
Lover of all children,
Bless my friends,
Bless all,
Who play with me,
Who learn with me,
Make us good, honest and true,
Make us all love.

-DharmenDra Bagrecha

Friday, April 12, 2013

छोटी सी तो ज़िंदगी है, हर हाल में खुश रहो...

छोटी सी तो ज़िंदगी है,
हर हाल में खुश रहो...

हर बात में खुश रहो
जो चेहरा पास ना हो,
उसकी आवाज़ में खुश रहो,
कोई रूठा हो तुमसे,
उसके इस अंदाज़ में खुश रहो,
जो लौट के नहीं आने वाले,
उन लम्हों की याद में खुश रहो,
कल किसने देखा है ,
अपने आज में खुश रहो,
खुशियों का इंतज़ार किसलिए,
दूसरों की मुस्कान में खुश रहो,
क्यूँ तड़पते हो हर पल किसी के साथ को,
कभी तो अपने आप में खुश रहो,
छोटी सी तो ज़िंदगी है,
हर हाल में खुश रहो...

Wednesday, April 10, 2013

Some good sites for learning code



Codecademy.com is something slightly different than the last two. It uses a curriculum of exercises to teach the basics of coding in a variety of languages (PHP, JScript, Java, Python, Ruby, etc.). It has a text box to write different codes, and a number of tasks written alongside as a way to teach different skill sets.

PHP Academy is similar to Codecademy in that it’s a private, community-based site working to educate the world on web development.


Frequently coders refer me to GitHub, Pastebin, or SourceForge. These sites are require an aptitude for “learning by doing”, and knowledge of how to navigate the confusing sitemap and specific terminology.


Coursera has been getting some real press these days. Started by a few Stanford Professors last year as a way to offer online courses from myriad universities for free, it has courses for credit and wide-ranging course offerings. In terms of computing, it has an Intro to Programing course from the University of Toronto, which is similar to what edX offers. However, Coursera offers other, more specialized code courses.


Mozilla has entered into the online courseware game with P2PU. In the tradition of Mozilla, P2PU is completely open, and provided a non-institutionalized, community-based education experience. It has a “School of Webcraft,” which includes “Webmaking 101” – a series of seven challenges aimed at teaching you how to start and code a blog.

Sunday, April 7, 2013

Syntex Error

SELECT few_moments
FROM your_busy_life
INTO your_loved_one_life
FOR ALL possible_occasions
WHERE your_spare_time IS NULL
OR
office_time TOO LARGE
OR
work_pressure IN ('much','too_much')
GROUP BY your_family;

- Dharmendra Basgrecha

Friday, April 5, 2013

Aamir Khan - FB



Aamir Khan--*Smiling* -.
Teacher--Aap Muskura kyu rhe hai?
Aamir Khan--Bohat Dino se FB Page ka Admin banne ki iccha thi,,aaj Ban gya hu,,bht maza aa rha hai.
Teacher--jyada Maze Lene Ki Zarurat nahi hai....ok Tell me What is a Post?
Aamir Khan--Anything that is posted on Facebook is Post Sir.
Teacher--Can you Please elaborate?
Aamir Khan--Sir,,jo bhi Facebook pe log daalte hai wö post hai sir....Ghumne gye toh photo daal diya!!! Post hai Sir. . .Match dekha Score daal diya!!! Post hai Sir. . .Sir actually hum post se ghire hue hai sir!!!. .  Katrina ki Pic se Ronaldo ki Kick tak!!! Sab post hai sir!!! Ek second me Comment,ek second me like!! Comment-like comment-like.

Teacher--Shut up! ADMIN banke ye karoge??? Comment-like comment- like. . .Hey chatur tum batao?
Chatur--Picture -s,texts or Videos posted through Mobile or Tablet or laptop or desktop via Different Operating system using Internet on Facebook is called a Post.
Teacher--excell -ent.!
Aamir Khan--par sir maine bhi toh wö hè bola seedhe shabdo mein.
Teacher--Seedhe -shabdo me karna hai toh kisi aur page ke admin bano.;>
Aamir Khan--Par sir dusre admin bhi toh.
Teacher-Get out!
Aamir Khan--why sir?
Teacher--Seedhe -Shabdo me bahar jaiye.

*Aamir Khan goes out and Comes Back*
Teacher--kya hua?
Aamir Khan--kuch Bhul gya tha sir.
Teacher--Kya?
Aamir Khan--An Utility button given us to protect our Private data. i.e pictures, messages or personal Information for being stolen or Used for bad purpose by hackers or anyone else.
Teacher--kehna kya chahte ho??
Aamir Khan--logout sir!!! Logout karna bhul gya tha.:p
Teacher--seedha -seedha ñî bol sakte the.?
Aamir Khan--thodi der pehle try kiya tha sir,aapko pasand nahi aaya :D :P

Tuesday, March 12, 2013

कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती

कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती

लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती ।
नन्हीं चींटी जब दाना लेकर चलती है
चढ़ती दीवारों पर सौ बार फिसलती है ।
मन का विश्वास रगों में साहस भरता है
चढ़कर गिरना गिरकर चढ़ना न अखरता है ।
आख़िर उसकी मेहनत बेकार नहीं होती
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती ।

डुबकियां सिंधु में गोताखोर लगाता है
जा जा कर खाली हाथ लौटकर आता है ।
मिलते नहीं सहज ही मोती गहरे पानी में
बढ़ता दुगना उत्साह इसी हैरानी में ।
मुट्ठी उसकी खाली हर बार नहीं होती
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती ।

असफलता एक चुनौती है इसे स्वीकार करो
क्या कमी रह गई देखो और सुधार करो ।
जब तक न सफल हो नींद चैन को त्यागो तुम
संघर्ष का मैदान छोड़ कर मत भागो तुम ।
कुछ किये बिना ही जय जय कार नहीं होती
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती ।

- सूर्यकांत त्रिपाठी 'निराला'

Thursday, February 21, 2013

Fast Track Digit - PHP Book pdf



Please Comment Below...


Tuesday, February 19, 2013

Rear book



Please comment your suggestion below....

Popular Posts